Blog‎ > ‎

Dil Chahta Hai!!!

posted 24 Nov 2011, 02:25 by Sudeep Jaiswal   [ updated 21 Dec 2011, 21:40 ]
Author: Suparas Singhi

I don't know but I am sure its been months that this blog haven't seen any Hindi poem...So here you go.

दिल चाहता है...

हात थामे उनका, फिर से चलना,
गोद में उनके रख, सर सोना,
प्यार से उनका गले लगाना,
गलती पे डांट खाके रोना,
दिल चाहता है...

मित्रो के डब्बो से खाना चुराना,
सब के साथ भ्रमण पे जाना,
भविष्य के पुलिस, डॉक्टर, वैज्ञानिक से मिलना,
दिल चाहता है...

लुका छुपी, चोर पुलिस खेल खेलना,
जी टीवी पे पडोसी के यहाँ गम्मी बीयर, बल्लू देखना,
देर रात अँधेरे में आग में आलू, सकरगंद सेकना,
दिल चाहता है...

होली में पडोश की सुन्दर लड़की को रंगना,
दिवाली में सबसे देर तक पटाखे फोड़ना,
मकरसंक्रांत में पतंग उड़ना
दिल चाहता है...

कक्षा की सुन्दर लड़की की हा में हा मिलाना,
दौड़ - भाग कर, उसके सारे काम करना,
उसकी एक नज़र में घायल होना,
एक मुस्कान से सातवे आसमान में उड़ना,
दिल चाहता है...

परीक्षा में प्रशनो के उत्तर रटना,
परिणाम में दोस्तों से तुलना करना,
अंको के खातिर, गुरुवो के आगे सर पीटना,
दिल चाहता है...

खेल की कक्षा में दोस्तों से दुश्मनी करना,
खुद को कुशल खिलाडी साबित करना,
कक्षा की छात्राओ को इम्प्रेस करना,
दिल चाहता है...

प्रयोगशाला के परिणामो को छापना,
अभियत्रिकी चित्रों को बिना समझे उतारना,
कक्षा में सोना, परीक्षा में नींद का गायब होना,
दिल चाहता है...

अखबार कार्यालय में भीड़ खड़ी करना,
परीक्षा क परिणामो के चिथड़े उड़ाना,
मित्रो को फ़ोन कर बताना - " भाई तु तो दो में गया",
" कमीने तुने तो फाड़ दी",
" कुत्ते कित्ता पढ़ा था बे"
दिल चाहता है...

फ़ैल हो या पास, जशन में शामिल होना
वेटर की हालत ख़राब करना
कुछ न मिले तो सोफ़ की कटोरी चाट जाना,
दिल चाहता है...

"भाभी है तेरी" कह हर लड़की को बुलाना,
अंत में अंगूर खट्टे कह निकल जाना,
कभी बिना कुछ कहे, सब कुछ कह देने को,
दिल चाहता है...

पहली बार किसी से आंखे चार होना
खाना, पीना, दोस्त सब से दूर होना,
अकेले में मुस्काना, तारो में उसे खोजना ,
दिल चाहता है...

नौकरी लगने पे दुखी होना,
दोस्तों से दूर जाके रोना,
फेसबुक, ओर्कुट, में दिन भर पड़े रहना,
कुत्ते, कमीने से हर दोस्त का अभिवादन करना
दिल चाहता है...

फिर से माता पिता के गोद में सर रख सोने को,
फिर से दोस्तों के हात थामे, दूर किसी रश्ते पे निकल जाने को ,
फिर से उनकी प्यारी आँखों में खो जाने को,
फिर से वो २२ साल जी लेनेको,
बस दिल हर बार चाहता है...

Thats all my dear readers!!! Thanks a lot for showing your patience and going through it. Hope you must have enjoyed it.

Comments